Saturday, August 25, 2007

भूत नाग ये वाले

आलोक पुराणिक

खबर है कि शरद पवारजी ने अपनी सांसद बिटिया को सलाह दी है कि संसद में टाइम वेस्ट ना करो, जाओ इलाके में जाकर काम करो।

संसद में नेता ज्यादातर टाइम वेस्ट ही करते हैं, यह पब्लिक तो हमेशा मानती है।

पर नेता कभी-कभार ही मानते हैं। चलो शरद पवारजी मान गये।

इलाके में जाकर नेता टाइम वेस्ट करे, तो पता लग जाता है कि वहां टाइम वेस्ट करना भी आसान नहीं है। बिजली नहीं है, कि सो कर किया जा सके। पानी नहीं है कि नहाकर किया जा सके। हां दारु के ठेके हैं, पीकर किया जा सकता है। खाने का जुगाड़ हो ना हो, पर पीने का जुगाड़ जरुर हो सकता है। पिछले दस सालों में राशन की जितनी दुकानें बंद हुई हैं, उतनी दुकानों से दोगुनी दारु की दुकानें खुल गयी हैं।

पब्लिक के खाने पर सरकार का खर्च होता है, पब्लिक के पीने से सरकार कमाती है।

पब्लिक के लिए मैसेज है-खाने के काम नेताओं के लिए छोडो, पीने का काम कर लो।

खैर मसला यह है कि सरकार जा रही है। नहीं, बच रही है। मार चपर-चूंचूं मची हुई है।

वैसे मैं खुश हूं। इस घपड़चौथ में एक काम अच्छा हुआ है कि टीवी चैनलों से नाग-भूत-प्रेत कम हो गये हैं। उस बिल्डिंग में जाते हुए नाग, इस बिल्डिंग से निकलते भूत टाइप कार्यक्रम टीवी चैनलों पर कुछ कम आ रहे हैं।

उस बिल्डिंग में जाते हुए नेता, उस बिल्डिंग से निकलते हुए नेता-इस टाइप के कार्यक्रम टीवी पर ज्यादा आ रहे हैं।

वैसे टीवी के एक गहरे जानकार का मानना है कि बेसिकली हैं ये भी भूत-नाग ही। यहां से निकल कर वहां चले जाते हैं, करना-धरना इन्हे भी कुछ भी नहीं हैं, सिवाय पब्लिक को डराने के।

अभी कल मिले एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता, कह रहे थे कि अमेरिका के साथ 123 का डील क्या हुआ, नौ दो ग्यारह होने की नौबत आ गयी।

मैंने कहा जी बच रहे हो, कि 123 पर नौ दो ग्यारह होने का सीन है। वरना प्याज-धनिया के भावों पर नौ दो ग्यारह होते।

नेता हंसने लगा-बोला प्याज-धनिया के भावों की चिंता हम नहीं करते। प्याज धनिया अब जो अफोर्ड कर सकते हैं, वे उस कैटेगरी के लोग हैं, जो किसी भी चीज के भाव नहीं पूछते। और जो पूछते हैं, वो धनिया और टमाटर को ज्वैलरी की तरह मानने लगे हैं, रोज यूज नहीं करते। ज्वैलरी के भावों पर सरकार आज तक नहीं गयी।

वैसे सोचिये, नेताजी गलत कह रहे हैं क्या।
आलोक पुराणिक

मोबाइल-09810018799

6 comments:

अनूप शुक्ला said...

नहीं भाई आप गल्त कैसे कह सकते हैं।

Gyandutt Pandey said...
This comment has been removed by the author.
Gyandutt Pandey said...

हां, यह सही है. अब टीवी से नाग - भूत भूत काल हो जायेंगे कुछ समय तक. अब सर्वेक्षण आने लगेंगे. कल एक आ ही गया है. उसे देख वाम वाले थोड़े सन्न होगे. एक सर्वेक्षण ले कर आया तो बाकी क्या पीछे रहेंगे! :)

अरुण said...

नही जी और भी काम है,नेताओ को. जैसे सोने का कल आपने देखी नही संसद की कार्यवाही ,जगा जगा कर कहना पडा,आप सवाल पूछ रहे थे जी..तो ये गलत आरोप है कि ये वहा टाईम वेस्ट करते है..:)

परमजीत बाली said...

अलोक जी ,भूत नही भागे है टीवी से अब उन की जगह उन से भी बड़े भूत उधम मचा रहे हैं,सो वह नजर नही आ रहे। जल्दी ही हवन शुरू हो जाएगें,इन नेताओ के द्वारा।एक दूसरे के विरूध:(

Isht Deo Sankrityaayan said...

आप नाग को नेता बताना चाहते हैं क्या? संभल कर रहिएगा. हाल ही में नाग पंचमी बीती है. नाग का कितना भी अपमान करिये वह मानहानि का दावा दायर करने नहीं जाएगा. क्योंकि उसे कचहरी पर भरोसा नहीं है. लेकिन कहीँ उसने डंस लिया तो?